दिल्ली बोले दिल से, केजरीवाल फिर से!!!

करीब 13 दिनों तक ट्विटर से दूर रहने के बाद सोमवार की सुबह अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर अपना हाल बताया। उन्होंने लिखा कि कफ दूर हो गया है, शुगर कंट्रोल में है और मैं फ्रेश और फिट फील कर रहा हूं। मैं दिल्ली पहुंच कर फिर से काम शुरू करने को लेकर काफी उत्साहित हूं। उन्होंने जिंदल इंस्टिट्यूट के डॉक्टर्स और स्टाफ का शुक्रिया अदा करने के साथ-साथ यहां मौजूद इलाज की सुविधाओं की तारीफ करते हुए कहा कि ऐसा इंस्टिट्यूट देश के हर शहर में होना चाहिए। अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद बेंगलुरु में मीडिया को दिए बयान में केजरीवाल ने कहा कि शुगर और खांसी बढ़ जाने की वजह से उनका स्वास्थ्य और काम दोनों प्रभावित हो रहा था, लेकिन अब मैं काफी राहत महसूस कर रहा हूं।

Work for the Delhi of your dreams. Let's join hands to create a model state.
Delhi Dialogue Commission (DDC) invites applications for engagement of Facilitators(with work experience), Facilitators, and Interns. The last date of submission of the applications is 18th March,2015.
  • English News
  • Editor's Choice
  • Must Read
Sandeep Kumar inaugurated a camp of rescue and rehabilitation for runaway children

Delhi Women & Child Development Minister Shri Sandeep Kumar inaugurated a camp ending ceremony of rescue and rehabilitation for runaway children at Gandhi Peace Foundation organized by a Bangalore based NGO, SATHI (Society for Assistance to Children in difficult situation) and supported by Department of Woman Child Development yesterday.

Delhi's Minister of Tourism visited Eco Tourism, Kanganheri.

Minister for Tourism, Govt. of Delhi, Jitender Singh Tomar, along with Parliamentary Secretary to Minister of Tourism, Alka Lamba, and Local MLA Gulab Singh, visited the Chhawla – Kanganheri, an Eco Tourism and Adventure Sports Complex developed by Delhi Tourism at Najafgarh drain.

Resolution to restore the power of ACB passed.

Deputy Chief Minister Mr Manish Sisodia, in the Delhi assembly passed a resolution to restore the original powers of the Anti Corruption Branch (ACB) as in the notification issued on 8 November 1993.

More »
क्या दिल्ली एक दीर्घकालिक (सस्टेनेबल) शहर है ?

जब हम दीर्घकालिक या स्थायी शहरों की बात करते हैं, तो हाल ही में जारी हुए एक सर्वे के नतीजे हमें दिल्ली पर चर्चा करने पर मजबूर कर देते हैं। हॉलैंड के एक समूह द्वारा हाल ही में जारी किये गये “आर्केडिस सस्टेनिबल सिटीज इन्डेक्स” में भारत की राजधानी दिल्ली शर्मनाक प्रदर्शन करते हुए 50 शहरों में से 49वें स्थान पर रही है। जर्मनी के फ़्रेंकफ़र्ट शहर को इस सर्वे में पहला व लंदन को दूसरा स्थान मिला। शिकागो 19वें स्थान पर रहा, वहीं मुम्बई ने 47वां स्थान प्राप्त किया।

Kirithika to AAPTivist.....

I am basically a software engineer but taken the role of home maker after kids. I was never interested in direct involvement in politics and activism. During IAC movement also, I was amused by the support from common man but I thought that it would die its natural death, as usual. 

During 2013 Delhi Election, I was surprised to see that AAP activists planned to contest all 70 seats with clean candidates. I wanted AAP to come to power as this is the only way to change the system.

Earlier, in September 2013, I was just supporting and sharing the Facebook posts and send suggestions to AAP regarding website. I was very happy to get response. I joined NRI Facebook groups and went for a local AAP activities.

कॉस्टेबल को अज्ञात वाहन ने कुचला,मौत 

नई दिल्ली। उत्तर-पूर्वी दिल्ली के वेलकम इलाके में एक कॉस्टेबल को तेजरफ्तार वाहन ने उस समय कुचल दिया जब वह अपनी ड्यूटी खत्म कर बाइक से सवार वापस घर लौट रहे थे। दुर्घटना के बाद राहगीरों ने दुर्घटना की जानकरी पुलिस को दी। पुलिस ने घायल अवस्था में गुरु तेग बहादुर अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। फिलहाल पुलिस ने मामला दर्ज कर अज्ञात वाहन और चालक की तलाश शुरू कर दी है।

More »
Major decisions/initiatives of Arvind Kejriwal govt in one month

Deputy Chief Minister of Delhi, Mr. Manish Sisodia on Friday provided details of the major decisions and initiatives taken by the Arvind Kejriwal government within 30 days of being sworn in on February 14.

क्या दिल्ली एक दीर्घकालिक (सस्टेनेबल) शहर है ?

जब हम दीर्घकालिक या स्थायी शहरों की बात करते हैं, तो हाल ही में जारी हुए एक सर्वे के नतीजे हमें दिल्ली पर चर्चा करने पर मजबूर कर देते हैं। हॉलैंड के एक समूह द्वारा हाल ही में जारी किये गये “आर्केडिस सस्टेनिबल सिटीज इन्डेक्स” में भारत की राजधानी दिल्ली शर्मनाक प्रदर्शन करते हुए 50 शहरों में से 49वें स्थान पर रही है। जर्मनी के फ़्रेंकफ़र्ट शहर को इस सर्वे में पहला व लंदन को दूसरा स्थान मिला। शिकागो 19वें स्थान पर रहा, वहीं मुम्बई ने 47वां स्थान प्राप्त किया।

बजट में बढ़कर मिले पैसे से दिल्ली पुलिस को राहत

नई दिल्ली। सालाना बजट में दिल्ली पुलिस को केंद्र सरकार की तरफ से 507 करोड़ रूपये बढ़ाकर देनाए इस बात की तरफ संकेत करता है कि केंद्र सरकार दिल्ली में पुलिस को मजबूत करने पर बल दे रहीं है। देश की राजधानी को अपराध मुक्त बनाने के लिए केंद्र सरकार का यह कदम सराहनीय है। पिछले वर्ष दिल्ली पुलिस को 4865.30 करोड़, जबकि इस वर्ष 5372.88 करोड़ मिले है। दिल्ली में 2013-2014 में उससे पिछले साल के मुकाबले अपराधिक मामलों में अधिकता देखी गई थीं। 2013 में डकैती, हत्याए गैर इरादतन हत्याए, लूट, रेप, स्नेचिंग, धोखाधड़ी, चोरी, वाहन चोरी आदि मामलों में पुलिस के समक्ष 73902 मामले आए थे। जबकि 2014 में ऐसे मामलों की संख्या बढ़कर 147230 हो गई, जिससे साफ़ जाहिर होता है कि दिल्ली में अपराधिक वारदातें बढ़ रहीं है।

More »
आम आदमी तो आम होता है...
कभी गुस्सा तो प्यार कभी,सच-झूठ का कारोबार कभी ,
परिवार और रोजी-रोटी, इनका सारा संसार यही,
आजकल ख़बरों में, प्रायः गुमनाम ही होता है....  
वो 49 दिन, बहुत याद आएगे...
वो जनता की मर्ज़ी पे सत्ता मे आना,
आम आदमी का आसमान छू जाना,
वो मेट्रो से तेरा, ताजपोशी को आना,
वो राम-लीला मैदान का मंज़र सुहाना,
वो सपनो की दुनिया हक़ीकत मे आना,
वो आँखो की नमी, होंठों का मुस्कुराना,
कभी तो हंसाएँगे , कभी तो रुलाएँगे. वो 49 दिन..
रंग दुनिया ने दिखाया है निराला / कुमार विश्वास
रंग दुनिया ने दिखाया है निराला, देखूँ,
है अँधेरे में उजाला, तो उजाला देखूँ
आइना रख दे मेरे हाथ में,आख़िर मैं भी,
कैसा लगता है तेरा चाहने वाला देखूँ
जिसके आँगन से खुले थे मेरे सारे रस्ते,
उस हवेली पे भला कैसे मैं ताला देखूँ
भ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामा/ कुमार विश्वास
भ्रमर कोई कुमुदुनी पर मचल बैठा तो हंगामा!
हमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामा!!
अभी तक डूब कर सुनते थे सब किस्सा मोहब्बत का!
मैं किस्से को हकीक़त में बदल बैठा तो हंगामा!!
Read More Poems »
Copyright © 2014 Aap Ki Kranti All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy